Category: Harivansh Rai Bachchan

Madhushala in Hindi and English – Dr. Harivansh Rai Bachchan

Mrudu bhaavo ke anguro ki
aaj bana laaya haala
priyatam, apne haatho se
aaj pilaaonga pyaala ;
pehle bhog laga loo tujhko
fir prasad jag paayega
sabase pehle tera swagat
karti meri madhushala

The author here welcomes the reader to his book by telling him/her that he has made this wine(book) with great care and love just for him/her and Read More


Madhushala Ki Madhubala

1

मैं मधुबाला मधुशाला की,
मैं मधुशाला की मधुबाला!
मैं मधु-विक्रेता को प्यारी,
मधु के धट मुझपर बलिहारी,
प्यालों की मैं सुषमा सारी,
मेरा रुख देखा करती है
मधु-प्यासे नयनों की माला।
मैं मधुशाला की मधुबाला!

2

इस नीले अंचल की छाया
में जग-ज्वाला का झुलसाया
आकर शीतल करता काया,
मधु-मरहम का मैं लेपन कर
अच्छा करती उर का छाला।… Read More