Tedhi Chaal Zamane Ki

सीधी -
सादी पगडंडी पर
टेढ़ी चाल जमाने की
1
एक हकीकत मेरे आगे
जिसकी शक्ल कसाई सी
एक हकीकत पीछे भी है
ब्रूटस की परछाईं सी
1
ऐसे में भी
बड़ी तबीयत
मीठे सुर में गाने की
1
जिस पर चढ़ता जाता हूँ
है पेड़ एक थर्राहट का
हाथों तक आ पहुँचा सब कुछ
भीतर की गर्माहट का
1
जितना खतरा
उतनी खुशबू
अपने सही ठिकाने की
1
-शिवबहादुर सिंह भदौरिया

Search Terms:

Related posts:

Share Your Comment...