Ye Itne Log – Kumar Vishwas Hindi Poems

traffic-picsये इतने लोग कहाँ जाते हैं सुबह-सुबह………….?

ढेर सी चमक-चहक चेहरे पे लटकाए हुए

हंसी को बेचकर बेमोल वक़्त के हाथों

शाम तक उन ही थकानो में लौटने के लिए

ये इतने लोग कहाँ जाते हैं सुबह-सुबह…………..?

ये इतने पाँव सड़क को सलाम करते हैं

हरारतों को अपनी बकाया नींद पिला

उसी उदास और पीली सी रौशनी में लिपट

रात तक उन ही मकानों में लौटने के लिए

ये इतने लोग कहाँ जाते हैं सुबह-सुबह……………?

शाम तक उन ही थकानो में लौटने के लिए !

ये इतने लोग, कि जिनमे कभी मैं शामिल था

ये सारे लोग जो सिमटे तो शहर बनता है

शहर का दरिया क्यों सुबह से फूट पड़ता है

रात कि सर्द चट्टानों में लौटने के लिए

ये इतने लोग कहाँ जाते हैं सुबह-सुबह…………..?

शाम तक उन ही थकानो में लौटने के लिए !

ये इतने लोग क्या इनमे वो लोग शामिल हैं

जो कभी मेरी तरह प्यार जी गए होंगे ?

या इनमे कोई नहीं ज़िन्दा सिर्फ लाशें हैं

ये भी क्या ज़िन्दगी का ज़हर पी गए होंगे ?

ये सारे लोग निकलते हैं घर से, इन सबको

इतना मालूम है,जाना है लौट आना है,

ये सारे लोग भले लगते हों मशीनों से

मगर इन ज़िन्दा मशीनों का इक ठिकाना है

मुझे तो इतना भी मालूम  नहीं जाना है कहाँ ?

मैंने पूछा नहीं था,तूने बताया था कहाँ ?

खुद में सिमटा हुआ,ठिठका सा खड़ा हूँ ऐसे

मुझपे हँसता है मेरा वक़्त, तेरे दोनों जहाँ

जो तेरे इश्क में सीखे  हैं रतजगे मैंने

उन्ही की गूँज पूरी रात आती रहती है

सुबह जब जगता है अम्बर तो रौशनी की परी

मेरी पलकों पे अंगारे बिछाती रहती है

मैं इस शहर में सबसे जुदा, तुझ से, खुद से

सुबह और शाम को इकसार करता रहता हूँ

मौत की फाहशा औरत से मिला कर आँखें

सुबह से ज़िन्दगी पर वार करता रहता हूँ

मैं कितना खुश था चमकती हुई दुनिया में मेरी

मगर तू छोड़ गया हाथ मेरा मेले में

इतनी भटकन है मेरी सोच के परिंदों में

मैं खुद से मिलता नहीं भीड़ में, अकेले में

जब तलक जिस्म ये मिटटी न हो फिर से, तब तक

मुझे तो कोई भी मंज़िल नज़र नहीं आती

ये दिन और रात की  साज़िश है, वगरना मेरी

कभी भी शब् नहीं ढलती, सहर नहीं आती

तभी तो रोज़ यही सोचता रहता हूँ मैं

ये इतने लोग कहाँ जाते हैं सुबह-सुबह……..

Search Terms:

Related posts:

Share Your Comment...